एपिसोड 04. पारोमिता वोहरा: बेबाक, बिंदास और बेख़ौफ़ ज़ुबान

CineMayaEpisode04.png

कुछ लोगों से मिलने के बाद ये समझ में आता है कि भले ही उनके काम की चर्चा सारा ज़माना ना कर रहा हो लेकिन उनका काम अपने आप में कितना अहम है और कितने लोगों को छू रहा है. पारोमिता वोहरा से मिलकर शायद आपको भी ऐसा ही लगेगा. बॉलीवुड कहे जाने वाले सिनेमा ने उन्हें मजबूर किया कि वो अपनी एक नई भाषा गढ़ें और उसी के साथ आगे बढ़ें. पारोमिता की डाक्यूमेंट्री फ़िल्में शोध का विषय हैं और बहुत हैरानी की बात होगी अगर आने वाले दिनों में उनकी फ़िल्मी भाषा और ऐस्थेटिक पर गहन अकादमिक चर्चा ना हो.

It is difficult to define film director Paromita Vohra as she is constantly redefining herself. She is a director with a difference who believes in raising questions and provoking the desire to look for answers. She is a creative practitioner of sexual politics who is empowering people by devising tools to understand and express themselves as sexual beings. Paromita joins Swati Bakshi to talk about her documentaries, her directorial decisions and the politics of Bollywood.
You can check out Paromita's innovative website- Agents of Ishq(http://agentsofishq.com/)